सुपरचार्जर क्या है ? supercharger in hindi

हेलो दोस्तों स्वागत है आप सभी का एक और नयी पोस्ट में क्या आप जानते हैं कि सुपरचार्जर क्या है । और ये क्या करता है । आज हम सुपरचार्जर के बारे में । कि सुपरचार्जर आखिर क्या है 

सुपरचार्जर क्या है

आमतौर पर इंजन जो हवा खींचता है । वो सामान्य हवा फ्यूल के साथ मिलकर मिश्रण के रूप में combustion चेम्बर में जलता है । जिससे पावर बनती है ।

पर वहीँ कुछ पैट्रोल इंजनों में अधिक फ्यूल मिश्रण जलने के लिए जिससे ज्यादा पावर प्राप्त की जा सके । उनमें सुपरचार्जर का प्रयोग किया जाता है ।

जो अधिक खींच कर सिलेंडर में पहुंचाता है । जिससे इंजन की पावर बढ़ जाती है । इसे आमतौर पर इनलेट मेनीफोल्ड के बीच में लगा होता है । सुपरचार्जर से फ्यूल मिश्रण का अनुपात सिलेंडर में अधिक हो जाता है । 

wankel engine क्या है ? जाने हिंदी में

supercharger  कैसे काम करता है

सुपरचार्जर एक ऐसा मेकेनिज़्म है । जिससे इंजन पर ही लगाया जाता है । और ये इंजन से ही पावर लेता है । जैसे ही इंजन स्टार्ट होता है । इंजन जो सामान्य हवा खींचता है ।

सुपरचार्जर उसके मुकाबले अधिक हवा इंजन सिलेंडर में पहुंचाता है । जिससे इंजन फ्यूल के साथ हवा की मात्रा बढ़ जाता है । और अधिक फ्यूल मिश्रण जलने के कारण इंजन अधिक पावर प्राप्त करता है ।

सुपरचार्जर इंजन के शुरू होते ही इंजन के साथ साथ कार्य करता है । जिससे इंजन को शुरू में ही पावर मिलनी शुरू हो जाती है । जिन गाड़ियों में परफॉरमेंस की अधिक आवश्यकता होती है ।

उनमें सुपरचार्जर का प्रयोग किया जाता है जैसे रेसिंग गाड़ियों में मुख्तयः सुपरचार्जर का प्रयोग किया जाता है

spark plug क्या है ? और कैसे कार्य करता है

सुपरचार्जर कितने प्रकार के होते हैं

सुपरचार्जर मुख्यतः कुछ प्रकार के होते हैं जो निम्नलिखित हैं –

 1 . Root type supercharger –

इस सुपरचार्जेर में दो रोटर एपीसीक्लोइड के आकार में लगे होते हैं । और ये प्रायः गियरों से जुड़े रहते हैं । जब भी रोटर शाफ़्ट घूमती है । तो दो रोटर एक गति से घूमते हैं पर एक दूसरे के विपरीत दिशा में घूमते हैं ।

साथ ही रोटर के लोब्स एक दुसरे से समकोण पर आपस में मिले रहते हैं । यह लोब सुपरचार्जर केसिंग के बीच दबकर आगे बढ़ता है । और आउटलेट से मेनीफोल्ड के रास्ते सिलेंडर में जाता है 

 

2 . Centrifugal Type Supercharger –

इसमें एक रोटर लगा होता है । जो लगभग 1000 R.P.M पर चलता है । इसमें पैट्रोल और हवा का मिश्रण इस रोटर के बीच में पहुँचता है । तथा ये वेन्स में होता हुआ आउटर केसिंग से मेनीफोल्ड के रास्ते सिलेंडर में जाता है ।

 

3 . Vain Type Supercharger-

इस सुपरचार्जर में हॉउसिंग बेलनाकार होती है । इसमें एक एक इनलेट और आउटलेट मार्ग बने होते हैं । हाउसिंग में एक ड्रम शाफ़्ट पर कसा रहता है ।

और ये शाफ़्ट हाउसिंग में एक्सेंट्रिक लगी होती है । दद्रुम के बाहर वेन्स लगी होती है । जो स्प्रिंग के कारण दीवार से चिपकी रहती है । जब ड्रम घूमता है ।

तो ड्रम तथा हाउसिंग के बीच जगह इनलेट से आउटलेट की ओर कम हो जाती है जिससे इनलेट के द्वारा आया हुआ पैट्रोल ओर हवा का मिश्रण वेन्स ओर ड्रम ओर हाउसिंग के बीच दबकर आगे बढ़ता है । ओर आउटलेट से मेनीफोल्ड के रास्ते सिलेंडर में जाता है 

 

आपने जाना कि सुपरचार्जर क्या होता है । आपको ये पोस्ट कैसी लगी अपने सुझाव हमें कमेंट बॉक्स में भेजें ओर पोस्ट को औरों के साथ भी साझा करें तथा हमें FACEBOOK और INSTAGRAM पर जरूर फॉलो करें 

धन्यवाद 

 

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published.