फ्यूल इंजेक्टर क्या है ? हिंदी में fuel injector in hindi

हेलो दोस्तों स्वागत है आप सभी का एक और नयी पोस्ट में क्या आप जानते हैं की फ्यूल इंजेक्टर क्या है । और ये कैसे कार्य करता है । चलिए जानते हैं कि फ्यूल इंजेक्टर क्या है ।

फ्यूल इंजेक्टर fuel injector

फ्यूल इंजेक्टर का प्रयोग डीजल इंजन में किया जाता है । ये डीजल को combustion  इंजन में स्प्रे करने के लिए किया जाता है । सामान्यतः किसी द्रव को किसी जगह निश्चित स्थान पर प्रवेश कराना इंजेक्शन कहलाता है । और डीजल इंजन में फ्यूल को छोटे छोटे कणों में फुहार के रूप में सिलेंडर में पहुँचाना इंजेक्शन कहलाता है । यह इंजेक्टर के द्वारा किया जाता है । इसे फ्यूल स्प्रे वाल्व या ऑटोमाइज़र भी कहा जाता है ।

इंजेक्टर के द्वारा इंजेक्शन  लगभग 1500 से 2000 प्रति वर्ग इंच के दबाव से किया जाता है । क्यूंकि कम्प्रेशन स्ट्रोक पौण्ड प्रति वर्ग इंच रहता है । उस समय दबी  हवा का ताप 5000 C से 7000 C तक रहता है । इन इंजेक्शन के होते ही डीजल गर्म हवा के संपर्क में आने से जल जाता है । जिससे पावर प्राप्त होती है ।

इंजन नौकिंग हिंदी में ? engine knocking in hindi

इंजेक्टर के मुख्य भाग

  • नॉज़िल ( ऑटोमाइज़र )
  • इंजेक्टर बॉडी
  • नॉज़िल स्प्रिंग
  • सेफ्टी कैप
  • ओवरफ्लो रिटर्न पाइप
  • प्रैशर एडजस्टिंग स्क्रू
  • फ्यूल इनलेट
  • लॉक नट
  • स्पिण्डल

इंजेक्टर की बनावट कैसी होती है

कई छोटे और बड़े भागों को आपस में मिलकर इंजेक्टर बनाया जाता है । इंजेक्टर के सबसे ऊपरी भाग पर कैप नट और सबसे नीचे वाले भाग पर नॉज़िल फिट रहती है । बीच का भाग बॉडी होती है । बॉडी के अंदर स्पिण्डल , नॉज़िल स्प्रिंग , प्रैशर एडजस्टिंग स्क्रू, लगे रहते हैं । और इंजेक्टर की बॉडी में ही फ्यूल इनलेट और और ओवरफ्लो रिटर्न पाइप फिट किये जाते हैं । फ्यूल इनलेट में फ्यूल इंजेक्शन पंप से आता है । और ओवरफ्लो पाइप के जरिये अतरिक्त फ्यूल वापस जाता है ।

spark plug क्या है ? और कैसे कार्य करता है

इंजेक्टर कैसे कार्य करता है

एक इंजेक्टर में सामान्य स्तिथि में । नॉज़िल स्प्रिंग के माध्यम से सीट से लगा रहता है । और डीजल निश्चित समय पर फ्यूल इंजेक्शन पंप से इंजेक्टर के फ्यूल इनलेट मार्ग से बॉडी के अंदर बने फ्यूल पैसेज में आता रहता है । इस समय फ्यूल में पर्याप्त रहता है । इस दबाव के कारण नॉज़िल स्प्रिंग दबाव से ऊपर उठ जाती है । और फ्यूल पैसेज में जमा फ्यूल दबाव उत्पन्न होने से नॉज़िल में बने छिद्रों के द्वारा महीन फुहार के रूप में CUMBUSTION  चैम्बर की गर्म हवा में फ़ैल जाता है । और गर्म हवा के संपर्क में आते ही डीजल जल जाता है । तथा इंजन में पावर प्राप्त होती है । इंजेक्शन होते ही फ्यूल पैसेज में फ्यूल का दबाव कम हो जाता है । और स्प्रिंग के माध्यम से नोजल वापस सीट पर वापस आ जाता है । और अतरिक्त वापस टंकी या फ़िल्टर में चले जाता है ।

इंजेक्टर नॉज़िल कितने प्रकार के होते हैं

इंजन और CUMBUSTION चम्बर के आधार पर ये अलग अलग प्रकार के होते है । ये मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं –

1 . मल्टी होल नॉज़िल – इस नॉज़िल में बहुत से छोटे छोटे छिद्र बने होते हैं । और इन्हें इंजन की उपयोगिता के आधार पर अलग अलग कोणों पर अलग अलग संख्या के नाप पर बनाया जाता है । इसमें एक साथ फ्यूल के अधिक फुहार CUMBUSTION चैम्बर में गिरती है । इससे डीजल जलने में सरलता होती है ।

2 . सिंगल होल नॉज़िल – इसमें केवल एक छिद्र बना रहता है । जिसके द्वारा डीजल की एक फुहार CUMBUSTION चेम्बर में आती है । इस प्रकार के नॉज़िल का प्रयोग अधिकतर छोटे इंजनों में होता है ।

3 . पिंटल नॉज़िल – इस प्रकार की नॉज़िल विशेष प्रकार की होती है । इनका प्रयोग अधिकतर PRE COMBUSTION CHEMBER वाले इंजनों में किया जाता है । इन इंजेक्टरों में इंजेक्शन दो भागों में होता है । इसमें नीचे की और से एक पिन या पिंटल रहता है । जो डीजल के दबाव में पूर्ण स्प्रे से पूर्व उठकर संक्षिप्त मात्रा का फ्यूल इंजेक्शन प्रथम चरण में करता है । इससे COMBUSTION चैम्बर की गर्म हवा डीजल के जलने से और अधिक गर्म हो जाती है । और फिर दूसरे चरण के इंजेक्शन के समय डीजल सुगमता व जल्दी से जलकर एक पूर्ण शक्ति विकसित करता है ।

इंजेक्टर टेस्टिंग कैसे की जाती है

इंजेक्टर बिना खराबी काफी समय तक कार्य करते रहते हैं । पर अधिक समय तक कार्य करने के कारण उनमें दबाव कम हो जाता है । जिससे कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं । कई समय उनसे डीजल टपकने लगता है । जिससे फुहार का रूप भी बिगड़ जाता है । इस प्रकार की समस्यायों को थी करने के लिए इंजेक्टो में तीन प्रकार के टेस्ट किये जाते हैं । जो निम्न प्रकार के होते हैं –

1 . इंजेक्टर लीक टेस्ट – एक इंजेक्टर के लिए जरूय होता है । कि डीजल इंजेक्शन के पश्चात उसमें डीजल टपकता न रहे । सामान्यतः इस प्रकार का दोष नॉज़िल वाल्व की सीट घिस जाने से होता है । और इसे ठीक करने के लिए नॉज़िल वाल्व को नीडल ग्राइंडिंग पर ग्राइंड किया जाता है । और सीट के लिए लैपिंग की जाती है । तथा लैप और ग्राइंड करके इंजेक्टर टैस्टर पर इसको टेस्ट किया जाता है

2 . इंजेक्टर प्रैशर टेस्ट – ये इंजेक्टर में एक मुख्य दोष होता है । जिससे उचित प्रैशर के साथ इंजेक्शन नहीं हो पाता है । या यूँ कहें कि इंजेक्टर का प्रैशर कम हो जाता है । इस प्रकार के दोष को दूर करने के लिए इंजेक्टर को टेस्टर पर लगाकर उसका प्रैशर को चैक किया जाता है । कम या अधिक प्रैशर होने पर एडजस्टिंग स्क्रू को कैसा या ढीला किया जाता है ।

3 . इंजेक्टर स्प्रे टेस्ट – मुख्यता एक इंजेक्टर के द्वारा फ्यूल महीन कणों में स्प्रे होना चाहिए पर कई समय खराबी के कारण स्प्रै के स्थान पर धार बनने लगती है । या स्प्रे दो भागों में बँटने लगता है । इस प्रकार की समस्या को दूर करने के लिए इंजेक्टर का स्प्रे चैक किया जाता है । और इस प्रकार की समस्या को दूर किया जाता है ।

 

अभी आपने जाना इंजेक्टर के बारे में आप ये पोस्ट कैसी लगी अपने सुझाव हमें कमेंट बॉक्स में भेजें तथा इस पोस्ट को औरों के साथ भी साझा करें

और हमें

FACEBOOK और INSTAGRAM पर जरूर फॉलो करें 

धन्यवाद 

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published.