External combustion इंजन क्या है?और कार्यप्रणाली

External combustion

हेलो दोस्तों स्वागत आप सभी का एक और नयी पोस्ट में आज हम जानेंगे इंजन के एक और नए रूप के बारे में जिसका प्रयोग अधिकतर कम देखने को मिलता है । पहले के समय में इस प्रकार के इंजन का प्रयोग केवल रेलवे में देखने को मिलता था पर अब  केवल कुछ जगहों  पर ही रेलवे में देखने को मिलता है । जिसे हम EC  मतलब External combustion   इंजन के नाम से जाना जाता है ।

ये इंजन का एक रूप है । इसमें इंजन को इंजन के सिलेंडर के अंदर न जलाकर इंजन सिलेंडर के बाहर जलाया जाता है । क्या आप जानना चाहते हैं कि External combustion   इंजन क्या होता है । और कैसे कार्य करता है । तो चलिए देर न करते हुए जानते हैं इसके बारे में

 

External combustion इंजन क्या है 

जैसा कि नाम से ही प्रतीत हो रहा है । एक्सटर्नल combustion इंजन ये इंजन का एक प्रकार है । जिसका प्रयोग वर्तमान समय में बहुत कम देखने को मिलता है ।

इस प्रकार के इंजन में  फ्यूल cumbistion इंजन सिलेंडर के बाहर होता है । और एक भाप के रूप में पिस्टन को गति देती है ।  इंजन बिना नॉइस के चलता है ।

इस E.C इंजन भी कहा जाता है ये हीट इंजन का एक भाग है

आज के बदलते दौर में इस प्रकार के इंजनों का प्रयोग बहुत अधिक नहीं होता है ।

इनका प्रयोग कुछ रेलवे इंजन ताप विद्युत गृहों और कुछ अन्य स्थानों में होता है ।

इसके अतरिक्त कुछ रोड रोलर में भी इस प्रकार के इंजन देखने को यदा कदा देखने को मिल जाता है 

जिनमें फ्यूल के रूप में पत्थर के कोक का प्रयोग किया जाता है  ।

 

 

इन्टर्नल cumbustion इंजन क्या है? और कितने प्रकार के होते हैं

 

External combustion इंजन कैसे कार्य करता है ?

 

इन इंजनों  में एक बॉयलर का प्रयोग किया जाता है । और इसी बॉयलर के नीचे ईधन को जलाकर पानी को बहुत उच्च दाब पर गर्म  किया जाता है । जिससे भाप उत्पन्न होती है । और उसी भाप का दबाव सिलेंडर के अंदर लगे पिस्टन के हैड पर डाला जाता है ।

साथ ही इन इंजिनों में ताप के माध्यम से ऊर्जा प्राप्त करने के लिए ईधन को सिलेंडर के बाहर ही जलने की वयस्था रहती है 

जिसमें अत्यधिक गर्मी से गैसों को फैलाकर पावर प्राप्त की जाती है  ।

 

डिस्क ब्रेक क्या है? और ये कैसे काम करता है

 

E.C इंजन में पिस्टन सीधे तौर पर कनेक्टिंग रॉड से कनेक्ट नहीं होता है ।

बल्कि इसमें एक स्ट्रिंग बॉक्स का उपयोग किया जाता है।

जिससे कि सिलेंडर में स्थित भाप को रोकने के लिए और लीकेज न होने में मदद मिलती है ।

इस प्रकार के इंजनों में सस्ता ईधन प्रयोग किया जाता है ।

External combustion इंजन के अंतर्गत भाप इंजन, स्टर्लिन इंजन , और स्टीम टरबाइन आते हैं ।

 

ABS क्या है और कैसे कार्य करता है

 

  इंजन के कुछ तथ्य 

1 . इंजन में पावर अधिक होती है ।

2 . पर इंजन को शुरू करने में स्टीम  बनाने में अधिक समय लग जाता है । और साथ ही रोकने में भी अधिक समय लगता है

3 . इसमें ईधन की क्षमता कम होती है

4 . और इंजन में ईधन को जलने का स्थान विस्तृत होता है ।

5 . इस प्रकार के इंजन में ईधन सिलेंडर के बाहर जलता है

6 . ऐसे इंजिनों में स्टीम का कार्यकारी दबाव और ताप क्रम कम होता है ।

7 . External combustion इंजन में ईधन को रखने के लिए अधिक जगह की आवश्य्कता होती है ।

8 . ये इंजन बहुत महंगे होते हैं।

9 . इस प्रकार के इंजन आकर में भी बहुत बड़े होते हैं।

 

एयर ब्रेक क्या होते है । और इनकी कार्यप्रणाली

 

उदाहरण के लिए

E.C इंजन का एक प्रकार है स्टीम इंजन चलिए जानते हैं थोड़ा इसके बारे में ये कैसे कार्य कार्य है

स्टीम इंजन में एक बिओलार का प्रयोग किया जाता है । जो कि भाप उत्पन्न करता है ।

बॉयलर में पाने भरा रहता है । इंजन से थोड़ा आगे ही कोयले का प्रयोग करके आग जलाई जाती है ।

जिससे गर्मी उत्पन्न होती है । और ये गर्मी बॉयलर को गर्म करके भाप बनाती है ।

 

आप सभी जानते हैं कि भाप मैं बहुत ताकत होती है । जिसका उपयोग करके इंजन को चलाया जाता है ।

सारी भाप स्टीम डॉम नामक एक गजह जमा हो जाती है । और वहां एक वाल्व लगा रहता है ।

जैसे ही वाल्व खुलता है । सारी भाप पाइप के माध्यम से इंजन तक पहुँच जाती है ।

इंजन में एक पिस्टन लगा होता है 

जो मूव होकर चक्के को को घुमाता है । इस पिस्टन  को भाप ही मूव करती है । जिससे इंजन को गति मिलती है । 

 

E.C इंजन और I.C इंजन में क्या अन्तर होता है ।

क्या आपको पता है कि E.C इंजन और I.C इंजन में क्या अन्तर होता है चलिए जानते हैं कि इनमें क्या अंतर होता है –

                                        I.C इंजन                                                                                                      E.C इंजन 

  • इस प्रकार के इंजन E.C इंजन के मुकाबले सस्ते होते हैं  ।                                                E.C इंजन महंगे होते हैं ।
  • इन्हें परस्पर कम पावर का भी बनाया जा सकता है ।                                                       IN इंजन की पावर अधिक होती है ।
  • इन इंजिनों में ईंधन सिलेंडर के अंदर जलता है ।                                                              इन इंजनों में ईंधन बाहर जलता है ।
  • I.C इंजन में ईंधन की क्षमता अधिक होती है ।                                                                 E.C इंजन में ईंधन की क्षमता कम होती है । 
  • इन इंजनों में फ्यूल टैंक अपेक्षाकृत छोटा होता है ।                                                           E.C इंजन में ईंधन के लिए बड़े स्थान की आवश्कयता होती है । 
  • I.C इंजन में COMBUSTION प्रेशर और ताप बहुत अधिक होता है ।                             E.C इंजन में  ताप और भाप का कार्यकारी दबाव कम होता है ।
  • इंजन को शीघ्र स्टार्ट किया जा सकता है ।                                                                         इंजन को शुरू करने के लिए अधिक समय लगता है ।

ये कुछ अंतर हैं I.C इंजन और E.C इंजन में 

 

दोस्तों इस पोस्ट में आपने जाना कि एक्सटर्नल COMBUSTION  इंजन क्या है । और ये कैसे कार्य करता है । आप को ये पोस्ट कैसी लगी कृपया अपने सुझाव हमें कमेंट बॉक्स में भेजें और और इस पोस्ट को औरों के साथ साझा करें। तथा हमें INSTAGRAM और  FACEBOOK पर जरूर FOLLOW करें

धन्यवाद

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published.